सफलता और असफलता का कारण (The cause of success and failure)

 

cause of failure
cause of failure

कोई भी व्यक्ति आज अपनी जिंदगी में चाहे जितना भी सफल क्यों न हो लेकिन कभी न कभी उसने भी अपनी जिंदगी असफलता ( failure) को तो देखा ही होगा ! कुछ लोग इन असफलताओं ( failure) से हार मानकर खुद भी हार जाते हैं और कभी सफल नहीं हो पाते ! जबकि कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जो इन सभी असफलताओं के बाद भी संघर्ष कर सफल होते हैं और अपने लिए एक मुकाम हासिल करते हैं !

भारत के 29 राज्यों के नाम

तो आज मैं अपनी इस कहानी में आपको सफलता और असफलता के बारे में बताऊंगा की आखिर इन असफलताओं (failure) के बाद भी कुछ लोग सफल कैसे हो जाते हैं जबकि कुछ इससे हार मानकर पीछे हट जाते हैं !

असफलता (failure) का कारण :-

एक बार एक आदमी सड़क के किनारे से गुजर रहा था ! तभी उसकी नजर वहां खड़े हाथियों पर पड़ी ! उसका ध्यान उन हाथियों के पैरों में बंधी रस्सी पर गया जिससे वह हाथी बंधे हुए थे ! उसने देखा कि हाथी जिस रस्सी से बंधे हैं वह रस्सी तो बहुत पतली है फिर भी हाथी आराम से उस रस्सी से बंधे हुए हैं !

वह अपने आपको उस रस्सी से निकालने की बिल्कुल भी कोशिश नहीं कर रहे जबकि हाथी तो कितना ताकतवर जानवर है ! वह चाहे तो पलभर में इस रस्सी को तोड़ दे और इससे आजाद हो जाये फिर भी वह उसे तोड़ने की बिलकुल भी कोशिश नहीं कर रहे हैं और आराम से इससे बंधे हुए हैं !

यह सब देखकर उसे बड़ा आश्चर्य हुआ और यह सब जानने की उसे उत्सुकता भी हो रही थी ! वह आदमी उन हाथियों के पास खड़े महावत (हाथियों की देखभाल करने वाला ) के पास गया !

उससे पूछा कि आपने हाथी जैसे विशालकाय और ताकतवर जानवर को किसी मोटी- सी लोहे की जंजीर में बांधने की जगह इस पतली- सी रस्सी से बांध रखा है फिर भी ये इससे बाहर निकलने की भी कोशिश नहीं कर रहे ऐसा क्यों ?

उस आदमी की बात सुनकर महावत मुस्कुराया और उससे कहा कि जब यह हाथी छोटे (बच्चे) थे तब भी इन्हे इन्ही रस्सियों से बांधा जाता था ! उस वक्त यह हाथी इन रस्सियों को तोड़ने और भागने की बहुत कोशिश करते थे !

उस वक्त यह ऐसा नहीं कर पाते थे क्योंकि जब यह हाथी छोटे थे और इतने ज्यादा ताकतवर नहीं थे तब उनके मुकाबले यह रस्सी बहुत मजबूत हुआ करती थी ! जिसकी वजह से इन्हे धीरे – धीरे यह विशवास हो गया कि वह इन रस्सियों को नहीं तोड़ सकते ! gkwebsite.com

जैसे – जैसे यह हाथी बड़े हुए तो इन्होने रस्सी को तोड़ने की कोशिश भी बंद कर दी ! लेकिन इस समय इन हाथियों के पास इतनी ताकत है कि वह इस रस्सी को आसानी से तोड़ सके !

लेकिन उस वक्त बार – बार मिली असफलता (failure) के कारण इन्हे यह भरोसा हो गया कि वह चाहे कुछ भी कर लें लेकिन वह सफल नहीं हो सकते ! ऐसा इसलिए क्योंकि इन्होने यह बात अपने दिमाग में बैठा ली है की यह रस्सी बहुत मजबूत है और वह इससे नहीं निकल सकते !

इसीलिए आज इतना ताकतवर होते हुए भी यह हाथी इस रस्सी से निकलने की कोशिश भी नहीं करते और चुपचाप इससे बंधे रहते हैं ! यह सब सुनकर उस आदमी को बड़ा आश्चर्य हुआ कि सिर्फ असफलता (failure) को अपने दिमाग में बैठकर हाथी जैसा बड़ा और ताकतवर जानवर भी इतना आसान सा काम करके सफल नहीं हो सकता !

असफलता (failure) से न डरें :-

इस कहानी की तरह ही कुछ लोग ऐसे भी होते है जो असफलता मिलने पर यह मान लेते हैं कि वह कभी सफल नहीं हो सकते ! ऐसे लोग अगर किसी काम को कर रहें हैं और उन्हें उसमे बार – बार असफलता मिल रही है तो वह इस बात को अपने दिमाग में बैठा लेते हैं की वह चाहे कुछ भी कर लें पर कभी सफल नहीं हो सकते !

असफलता भी सफलता की तरह ही जीवन का एक हिस्सा है जो हमारे जीवन में आती है ! क्योंकि इसके बाद ही हमें सफलता का एहसास होता है ! जो लोग कभी हार नहीं मानते और हमेशा प्रयास करते है !

उन्ही लोगों को सफलता हासिल होती है न कि उन्हें जो हार मानकर सफल होने का प्रयास ही न करें ! देर-सवेर हर किसी की जिंदगी में सफलता जरूर आती है इसलिए कभी असफलता से न डरें बल्कि उसका सामना करना चाहिए !

Interesting facts related to Indian Railways

( अभी आप ये जानकारी gkwebsite.com पर पढ़ रहे है ! )

दोस्तों ये पोस्ट आपको कैसे लगी । हमें अपने विचार नीचे कमेंट बॉक्स में दे ।

 

 

 

 

Fields marked with an * are required

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *