बैंक (bank) द्वारा दिए गए आपके 10 अधिकार

 Bank बैंक Dwara Diye Gaye AAPKE 10 Adhikaar
Bank (बैंक) Dwara Diye Gaye Adhikaar

आज हम आपको बैंकों से जुड़े आपके अधिकारों के बारे में कुछ जानकारी दे रहें हैं !

आजकल हर व्यक्ति का किसी न किसी बैंक (Bank) में खाता (account) तो होता ही है ! लेकिन क्या आपको पता है कि आपके पास भी बैंक द्वारा दिए गए अधिकार जो बैंक वाले आपको कभी नहीं बताते !अगर आपका भी किसी बैंक (Bank) में खाता (account) है तो आपके पास उससे जुड़े ऐसे अधिकार (Rights) होते हैं !

जिनके बारे में आपको पता ही नहीं होता ! आपको इन अधिकारों (Rights) की जानकारी न होने के कारण आप कुछ भी नहीं कर पाते जिससे होता यह है कि बैंकों (Bank) से आपको जो मुआवजा (Compensation) मिलना चाहिए वह इन अधिकारों (Rights) के बारे में पता न होने के कारण आपको नहीं मिल पाता है !

बैंक (bank) द्वारा दिए गए आपके 10 अधिकार :-

1.  अगर आपने किसी भी बैंक (Bank) में किसी भी लोन (Loan) जैसे :- पर्सनल लोन (Personal Loan) या होम लोन (Home Loan) आदि के लिए अप्लाई (Apply) किया हैं !

और बैंक (Bank) आपका लोन रिजेक्ट (Loan Reject) कर देता है तो उसे आपको इसका कारण बताना पड़ेगा कि उन्होंने किस वजह से आपका लोन रिजेक्ट ((Loan Reject)) किया है !

अगर बैंक (Bank) आपको आपका लोन रिजेक्ट (Loan Reject) करने का सही कारण नहीं बता पाता है तो आप उसकी शिकायत बैंकिंग लोकपाल (Banking Ombudsman) में कर सकते हैं !

2.   अगर बैंक (Bank) आपसे पूछे बिना आपके लिए क्रेडिट (Credit) या डेबिट कार्ड (Debit Card) जारी (Issue) कर देता है जिसके बारे में आपको पता नहीं है और आपके अकाउंट (Account) से पैसे कट जाते हैं !

इसलिए वह पैसे आपकी वजह से नहीं बल्कि बैंक (Bank) की गलती की वजह से कटे हैं तो ऐसे में बैंक (Bank) आपको आपके वह पैसे वापस करेगा और आपको उसका दुगना मुआवजा (Compensation) मिलेगा !

3.   यदि किसी का भी बैंक (Bank) में अकाउंट (Account) है और उसमे उस व्यक्ति के पैसे है ! अचानक किसी वजह से उस व्यक्ति की मृत्यु (Death) हो जाती है और उन्होंने अपने अकाउंट (Account) में कोई भी नामांकित व्यक्ति (Nominee) नहीं बनाया है !

ऐसे में बैंक (Bank) उस अकाउंट होल्डर (Account Holder) के पैसे को अपने पास नहीं रख सकता क्योंकि जिस व्यक्ति की मृत्यु (Death) हुई है उसकी तरफ से कोई भी एप्लीकेशन (Application) बैंक (Bank) में दे सकता है !

उसके पंद्रह दिन (15 Days) के अंदर जितना भी पैसा उनके अकाउंट (Account) में था जो भी उनका नामांकित व्यक्ति (Nominee) बनेगा बैंक (Bank) को उसे उनका पैसा वापस करना पड़ेगा !

4.   अगर आपके चैक कलेक्शन(check collection) में देरी होती है जिसमे कि आपकी कोई भी गलती नहीं है तो इसके लिए बैंक (Bank) जिम्मेदार होगा !

बैंक (Bank) को उसका मुआवजा (Compensation) आपको देना पड़ेगा और कोई भी बैंक (Bank) इस मुआवजे (Compensation) को आपको देने से इंकार नहीं कर सकता है !

5.   यदि आपके ईसीएस (E.C.S) में देरी हो जाती है तो उसके लिए बैंक (Bank) को आपको मुआवजा (Compensation) देना होगा ! ईसीएस (E.C.S) का मतलब है !

इलेक्ट्रॉनिक क्लीयरिंग सर्विस (Electronic Clearing Service) ! यह एक ऐसी सर्विस (Service) होती है कि जब भी हम ईसीएस (E.C.S) एक्टिवेट (Activate) करवा देते हैं तो हमारे अकाउंट (Account) से पैसे अपने आप (Automatically) कट जाते हैं !

जैसे :- मान लीजिये कि आपने कोई लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance ) लिया है जिसमे आप हर महीने (Monthly) या सालाना (Yearly) उसकी क़िस्त (Installment ) भरते है !

मतलब कि आपने बैंक (Bank) को ईसीएस (E.C.S) दे रखा है कि उस तारीख को आपके अकाउंट (Account) से पैसे कट जाने चाहिए !

अगर बैंक (Bank) की गलती की वजह से आपका ईसीएस (E.C.S) नहीं कटता है और जिसकी वजह से आपका नुकसान होता है तो इसका पूरा मुआवजा (Compensation) बैंक (Bank) को आपको देना पड़ेगा !

बैंक (bank) द्वारा दिए गए अधिकार :-

6.   आपके अकाउंट (Account) से ईसीएस (E.C.S) न कटने का दूसरा कारण यह भी है कि जब आपके अकाउंट (Account) में पैसे नहीं है तो भी ईसीएस (E.C.S) फेल हो सकता है !

लेकिन अगर आपका ईसीएस (E.C.S) Bank की वजह से फेल होता है तो ऐसे में Bank को आपको मुआवजा (Compensation) देना होगा !

7.   अगर आपने Bank से कोई भी लोन (Loan) लिया है जिसे आप टाइम पर नहीं भर पाते हैं तो आपको Bank को बताना पड़ेगा कि आप किस समस्या (Problem) की वजह से इसे नहीं भर सकते ! जब आप Bank को यह बतायेंगे तो Bank आपकी इस समस्या (Problem) को समझेगा !

Bank सभी चीजों को चैक करेगा कि आप सच बोल रहे हैं या झूठ ! अगर आप सच बोल रहें हैं तो Bank एक बीच का रास्ता निकालेगा और सैटलमेंट (Settlement) करेगा !

अगर आपको Bank को 4 से 5 लाख रूपये देने है और आप किसी वजह से इसी नहीं भर पा रहे हैं तो आप 2 से 2.5 लाख रूपये देकर इसको सैटलमेंट (Settlement) कर दीजिये !

8.   अगर आपके पास कोई भी कटे-फटे या पुराने नोट हैं तो आप Bank जाकर उन्हें बदल सकते हैं और कोई भी Bank इन नोटों को बदलने से इंकार नहीं कर सकता !

इसी तरह यदि आप  Bank के पास सिक्के लेकर जाते हैं तो भी Bank उन्हें बदलने से मना नहीं कर सकता !

9.   अगर आपने बीस लाख (Twenty Lakh) से कम होम लोन (Home Loan) या अन्य किसी भी लोन (Loan) के लिए Bank में एप्लीकेशन (Application) दी है !

तो Bank को तीस दिनों (Thirty Days) के अंदर आपको उसके बारे में जानकारी देनी होगी !

Bank को आपको बताना पड़ेगा कि आपका लोन (Loan) पास हुआ है या फेल ! सरकार ने Bank के लिए समय सीमा रखी है !

तीस दिनों (Thirty Days) के अंदर उन्हें सब कुछ क्लियर (Clear) करना होगा !  Bank आपसे तीस दिनों (Thirty Days) से ज्यादा चक्कर नहीं लगवा सकते !

10.   अगर आप Bank में कभी भी कुछ भी पैसे जमा करते है चाहे वह डिपोसिट अकाउंट हो (Deposit Account), सेविंग अकाउंट (Savings Account ) हो या करंट अकाउंट (Current Account) हो !

आप जिस दिन भी जिस पल भी चाहे तो उस पैसे को आप निकाल (Withdraw) सकते हैं और इसके लिए बैंक (Bank)आपको मना भी नहीं कर सकते !

यह कुछ अधिकार हैं जिनके बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए ताकि आप अपने इन अधिकारों का उपयोग करे और इनका फायदा उठायें और दूसरो को भी इन अधिकारों के बारे में बताये !

( अभी आप ये जानकारी gkwebsite.com पर पढ़ रहे है ! )

दोस्तों ये पोस्ट आपको कैसे लगी । हमें अपने विचार नीचे कमेंट बॉक्स में दे ।

 

 

 

Fields marked with an * are required
2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *